पन्ना रत्न की सम्पूर्ण जानकारी

हरे रंग का यह पत्थर नवरत्नों में एक प्रमुख रत्न है। पन्ना रत्न हरित ऊर्जा से संबंधित है। यह चमकीले हरे रंग के साथ चमकदार,…

View More पन्ना रत्न की सम्पूर्ण जानकारी

नीलम रत्न की सम्पूर्ण जानकारी

यह रत्न नवरत्न श्रेणी का है। इसे सबसे सम्मानित और साथ ही सबसे खतरनाक पत्थर माना जाता है। यह अत्यधिक प्रसिद्ध, सुंदर, आकर्षक और पारदर्शी…

View More नीलम रत्न की सम्पूर्ण जानकारी

पुखराज (पीला नीलम) की सम्पूर्ण जानकारी

यह दुर्लभ, सुंदर और महंगा गहना नवरत्न में से एक है। यह बाली के मांस से उत्पन्न हुआ था। पुखराज का सबसे अच्छा प्रकार सरसों…

View More पुखराज (पीला नीलम) की सम्पूर्ण जानकारी

माणिक रत्न की सम्पूर्ण जानकारी

यह लाल रंग की ऊर्जा से संबंधित नवरत्न श्रेणी का रत्न है। संस्कृत में माणिक को पद्मराग और कुरुविंद के नाम से जाना जाता है…

View More माणिक रत्न की सम्पूर्ण जानकारी

रत्नों का जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव का वैज्ञानिक कारण

रत्नों का जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव का वैज्ञानिक कारण इस ब्रह्माण्ड में ऊर्जा अनन्त है जो विभिन्न रूपों में संग्रहीत है। प्राचीन भारत की…

View More रत्नों का जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव का वैज्ञानिक कारण

सर्वकामप्रद श्रीगणेशाष्टकम

सर्वकामप्रद श्रीगणेशाष्टकम श्री गणेश पुराण के अंतर्गत उपासना खंड में महर्षि कश्यप की प्रेरणा से भक्तों ने सामूहिक रूप से इस श्रीगणेशाष्टक स्तोत्र को भगवान…

View More सर्वकामप्रद श्रीगणेशाष्टकम

आस्था के आयाम: बाबा गणमेश्वर (गढ़वालिंग), पिथौरागढ़, उत्तराखण्ड

अन्यान्य राष्ट्रों के लिए धर्म, संसार के अनेक कृत्यों में एक धंधा मात्र है। परंतु यहां भारतवर्ष में मनुष्य की सारी चेष्टाऐं धर्म के लिए…

View More आस्था के आयाम: बाबा गणमेश्वर (गढ़वालिंग), पिथौरागढ़, उत्तराखण्ड

प्रातःस्मरणीय श्लोक

श्री गणेश प्रातः स्मरण स्तोत्र प्रात: स्मरामि गणनाथमनाथबन्धुं  सिन्दूरपूरपरिशोभितगण्डयुग्मम् । उद्दण्डविघ्नपरिखण्डनचण्डदण्ड–  माखण्डलादिसुरनायकवृन्दवन्द्यम् । । अर्थ- अनाथों के बन्धु, सिन्दूर से शोभायमान दोनों गण्डस्थल वाले, प्रबल…

View More प्रातःस्मरणीय श्लोक

गीता जयंती का महात्म्य

गीता जयन्ती पर विशेष — गीता जयंती मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मनाई जाती है |इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता…

View More गीता जयंती का महात्म्य

आदित्य हृदय स्तोत्र ।। with संस्कृत lyrics एवं हिन्दी अर्थ के साथ

आदित्य हृदय स्तोत्र   वाल्मीकि रामायण के अनुसार “आदित्य हृदय स्तोत्र” अगस्त्य ऋषि द्वारा भगवान् श्री राम को युद्ध में रावण पर विजय प्राप्ति हेतु…

View More आदित्य हृदय स्तोत्र ।। with संस्कृत lyrics एवं हिन्दी अर्थ के साथ