प्रातःस्मरणीय श्लोक

श्री गणेश प्रातः स्मरण स्तोत्र प्रात: स्मरामि गणनाथमनाथबन्धुं  सिन्दूरपूरपरिशोभितगण्डयुग्मम् । उद्दण्डविघ्नपरिखण्डनचण्डदण्ड–  माखण्डलादिसुरनायकवृन्दवन्द्यम् । । अर्थ- अनाथों के बन्धु, सिन्दूर से शोभायमान दोनों गण्डस्थल वाले, प्रबल…

View More प्रातःस्मरणीय श्लोक

आदित्य हृदय स्तोत्र ।। with संस्कृत lyrics एवं हिन्दी अर्थ के साथ

आदित्य हृदय स्तोत्र   वाल्मीकि रामायण के अनुसार “आदित्य हृदय स्तोत्र” अगस्त्य ऋषि द्वारा भगवान् श्री राम को युद्ध में रावण पर विजय प्राप्ति हेतु…

View More आदित्य हृदय स्तोत्र ।। with संस्कृत lyrics एवं हिन्दी अर्थ के साथ

श्री शिवसहस्रनामावली

ॐ नमः शिवाय श्री शिवसहस्रनामावलीः ॐ स्थिराय नमः, ॐ स्थाणवे नमः, ॐ प्रभवे नमः, ॐ भीमाय नमः, ॐ प्रवराय नमः, ॐ वरदाय नमः, ॐ वराय…

View More श्री शिवसहस्रनामावली

श्री नव ग्रह स्तोत्रम्

जपाकुसुम संकाशं काश्यपेयं महाद्युतिम् । तमोऽरिं सर्वपापघ्नं प्रणतोऽस्मि दिवाकरम् ।। दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णवसम्भवम् । नमामि शशिनं सोमं शम्भोर्मुकुटभूषणम् ।। धरणीगर्भसम्भूतं विद्युत्कान्तिसमप्रभम् । कुमारं शक्तिहस्तं तं मंगलं…

View More श्री नव ग्रह स्तोत्रम्

श्री दुर्गा आपदुद्धाराष्टकम्

श्री दुर्गा आपदुद्धाराष्टकम् नमस्ते शरण्ये शिवे सानुकम्पे, नमस्ते जगद्व्यापिके विश्वरूपे | नमस्ते जगद्वन्द्यपादारविन्दे, नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे ||१||   नमस्ते जगच्चिन्त्यमानस्वरूपे, नमस्ते महायोगिनि ज्ञानरूपे ।…

View More श्री दुर्गा आपदुद्धाराष्टकम्

देवीमयी..तव च का किल न स्तुतिरम्बिके !

तव च का किल न स्तुतिरम्बिके !                       सकलशब्दमयी किल ते तनु: । निखिलमूर्तिषु मे भवदन्वयो                     मनसिजासु बहि:प्रसरासु च ।। इति विचिन्त्य शिवे !…

View More देवीमयी..तव च का किल न स्तुतिरम्बिके !

शिवाष्टकम्

।। शिवाष्टकम् ‌।। प्रभुं प्राणनाथं विभुं विश्वनाथं जगन्नाथ नाथं सदानन्द भाजाम् । भवद्भव्य भूतेश्वरं भूतनाथं, शिवं शङ्करं शम्भु मीशानमीडे ॥ 1 ॥ गले रुण्डमालं तनौ…

View More शिवाष्टकम्

श्रीकनकधारा स्तोत्रम || माता लक्ष्मीजी की शक्तिशाली स्तुति (संस्कृत में)

इसके श्रद्धा-विश्वाश पूर्वक पाठ-अनुष्ठान से ऋण मुक्ति और धन प्राप्ति होती है. यह विशेष मंत्र माता लक्ष्मीजी को प्रसन्न करने के पढ़ा जाता है. श्री…

View More श्रीकनकधारा स्तोत्रम || माता लक्ष्मीजी की शक्तिशाली स्तुति (संस्कृत में)

श्रीसूक्तम्

ऋग्वेद के दूसरे अध्याय के छठे सूक्त से अनुष्टुप छंद  में माता लक्ष्मी की अद्भुत स्तुति।   हिरण्यवर्णां हरिणीं सुवर्णरजतस्रजाम् चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म…

View More श्रीसूक्तम्