ध्यान और उसकी महिमा, योग धर्म तथा शिव योगी का महत्व

ध्यान और उसकी महिमा, योग धर्म तथा शिव योगी का महत्व, शिव भक्ति या शिव के लिए प्राण देने अथवा शिव क्षेत्र में मरण से…

View More ध्यान और उसकी महिमा, योग धर्म तथा शिव योगी का महत्व

योग मार्ग के विघ्न एवम् सिद्धि-सूचक ऐश्वर्य गुणों का वर्णन

उपमन्यु कहते हैं श्री कृष्ण! आलस्य, तीक्ष्ण व्याधियां, प्रमाद, स्थान-संशय, अनवस्थितचित्तता, अश्रद्धा, भ्रान्ति-दर्शन, दु:ख, दौर्मनस्य और विषय-लोलुपता-ये दस योग साधन में लगे हुए पुरुषों के…

View More योग मार्ग के विघ्न एवम् सिद्धि-सूचक ऐश्वर्य गुणों का वर्णन

योग के विभिन्न भेद

भगवान श्रीकृष्ण और उपमन्यु जी के मध्य संपन्न वार्ता के उपरांत उपमन्यु जी ने भगवान श्री कृष्ण को योग के विभिन्न भेद, अधिकार, अंग, विधि…

View More योग के विभिन्न भेद

परमात्म प्रभु से प्रार्थना…..नमस्ते सते ते जगत्कारणाय…..

परमात्म प्रभु से प्रार्थना ब्रह्म मुहूर्त में उठकर शुद्ध मन से शुद्ध आसन में बैठकर करनी चाहिए. जो अनंत शांति प्रदान करती है. जीवन के…

View More परमात्म प्रभु से प्रार्थना…..नमस्ते सते ते जगत्कारणाय…..

तंत्रोक्त देवीसूक्तम (अर्थ सहित)

इस मंत्र के जाप से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है. इस मंत्र का यथासम्भव पाठ करना चाहिए।  यह देवी माँ को प्रसन्न करने का…

View More तंत्रोक्त देवीसूक्तम (अर्थ सहित)

महाशिवरात्रि व्रत विधि एवं महिमा

महाशिवरात्रि उपवास श्रेष्ठ उपवास की श्रेणी में रखा जाता है हर मनुष्य को चाहिए की इस अवसर पर जरूर रात्रि भार जागरण कर भगवान् शिव…

View More महाशिवरात्रि व्रत विधि एवं महिमा

योग

योग शरीर, मन और भावनाओं में संतुलन एवं सामंजस्य स्थापित करने का एक साधन है. इसकी प्रासंगिकता तब और बढ़ जाती है जब यह वैज्ञानिकता…

View More योग