पंचाङ्ग ज्ञान

पंचाङ्ग दैनिक व्यवहार तथा धार्मिक कार्यों हेतु उपयोगी होने के साथ-साथ प्रांत विशेष के देशाचार व लोकाचार के प्रतीक रूप में रहने की आवश्यकता की…

View More पंचाङ्ग ज्ञान

ज्योतिष एक विज्ञान

छन्दः पादौ तु वेदस्य हस्तौ कल्पोऽथ पठ्यते। ज्योतिषामयनं चक्षुर्निरुक्तं श्रोत्रमुच्यते॥ शिक्षा घ्राणं तु वेदस्य मुखं व्याकरणं स्मृतम्। तस्मात्सांगमधीत्यैव ब्रह्मलोके महीयते॥ ‘पाणिनीय शिक्षा’ श्लोक ४१-४२ ‘पाणिनीय…

View More ज्योतिष एक विज्ञान